July 24, 2024 |

BREAKING NEWS

रुद्राक्ष धारण करने से मिलते हैं शुभ फल लेकिन धारण करने का तरीका जरूर जान ले

Media With You

Listen to this article

सनातन धर्म के सभी ग्रंथों सहित पुराणों आदि में भगवान शिव के प्रिय रुद्राक्ष के महत्व को अभिव्यक्त किया गया है जिनसे हमें रुद्राक्ष के आकार प्रकार एवं उनसे मिलने वाले फलों तथा धारण करने की सही विधि का ज्ञान प्राप्त होता है रुद्राक्ष का उच्चारण मात्र ही सभी फलों का देने वाला होता है कहते हैं इसके नाम को जपने से 10 गायों को दान देने के समान फल प्राप्त होता है

रुद्राक्ष पहन कर सभी भक्तों के कष्ट दूर हो जाते हैं और उनको अपने मनोकामना की प्राप्ति होती है रुद्राक्ष को धारण एवं जो अपने से करोड़ों लोगों की प्राप्ति होती है जब कोई साधक रुद्राक्ष पहन कर अभीष्ट मंत्रों का जप करता है तब उसक मनोरथ सुलभ होने लगते हैं रुद्राक्ष पहनकर शिव मंत्रों का जप एवं शिव पूजन अत्यंत लाभदायक सिद्ध होता है ध्यान रहे यह सब मनोरथ तभी सिद्ध होते हैं जो रुद्राक्ष को धारण करने की विधि त्रुटि विहीन की जाए शिव पुराण व अन्य धर्म ग्रंथों का सार लेते हुए धारण करने की विधि पर प्रकाश डाला गया है आइए जानते हैं

रुद्राक्ष को धारण करना एक महत्वपूर्ण कार्य होता है इसको धारण करने से पूर्व कुछ पवित्र नित्यकर्म किए जाते हैं जिसके पश्चात रुद्राक्ष अभिमंत्रित हो धारण यह उपयोग करने योग्य हो जाता है सर्वप्रथम याद रखने योग्य विषय है की जवाब रुद्राक्ष की माला रुद्राक्ष जो भी धारण करें उसे शुक्ल पक्ष के सोमवार को ग्रहण करना चाहिए

सर्वप्रथम धारण करने से पूर्व रुद्राक्ष को सरसों के तेल में 5 से 7 दिन भिगोकर रखना चाहिए तत्पश्चात रुद्राक्ष को गंगाजल एवं गाय के दूध के साथ स्नान कराएं तथा साथ ही साथ पंचामृत एवं पंचगव्य से भी स्नान कराएं और इसके साथ ही पंचाक्षर मंत्र ओम नमः शिवाय का जाप करते रहे इस विधि से अभिमंत्रित कर धूप दीप बिल पत्र लाल चंदन एवं लाल फूल पूजन करें तथा शिवलिंग से स्पर्श कराकर हवन की भभूति लगाएं पूर्व या उत्तर की दिशा में मुख करके दिए गए मंत्र का उच्चारण करते हुए धारण करें ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि धीमहि तन्नो रुद्र रुद्राक्ष की मांगों को शुद्ध लाल धागे में पिरो कर धारण करना उत्तम रहता है: रुद्राक्ष को पूर्णिमा संक्रांति ग्रहण या अमावस्या के दिन धारण करने से विशेष लाभ की प्राप्ति होती है शिव पुराण के अनुसार रुद्राक्ष के आधार को ब्रह्मदेव माना गया है जबकि नाभि को विष्णु भगवान का स्थान दिया गया है एवं चेहरे को रुद्र माना गया है और प्रत्येक क्षेत्र में कोटि कोटि देवताओं का वास कहां गया है इसलिए रुद्राक्ष को सही विधि पवित्रता शुद्धता और जान के साथ धारण करने से जीव के कष्ट दूर होते हैं और सुख में जीवन प्राप्त होता है साथ ही साथ रुद्राक्ष धारण करने वाले व्यक्ति को शुद्ध आचार विचार के साथ साथ सात्विक भोजन का भी ध्यान रखना होगा

सौजन्य से आचार्य नारायण कुमार दीक्षित नैमिषारण्य सीतापुर

 


Media With You

हमारी एंड्राइड न्यूज़ एप्प डाउनलोड करें

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

What's app your name and number

What's app your name and number

Leave A Reply

Your email address will not be published.