July 15, 2024 |

BREAKING NEWS

फूट-फूटकर रोने लगीं सपा मेयर प्रत्याशी काजल निषाद? कहा- ‘न्याय नहीं मिला तो आत्मदाह…’

Media With You

Listen to this article

गोरखपुर में समाजवादी पार्टी की मेयर प्रत्याशी काजल निषाद ने मतगणना में गड़बड़ी का आरोप लगाते हुए हंगामा किया. प्रशासनिक अधिकारियों से शिकायत के बाद वह मीडिया के सामने फूट-फूटकर रोने लगीं

काजल निषाद ने कहा कि अगर मुझे न्याय नहीं मिला तो आत्मदाह कर लूंगी. गोरखपुर विश्वविद्यालय के काउंटिंग स्थल पर काजल निषाद कार्यकर्ताओं और समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गई. उन्होंने कहा कि जब तक न्याय नहीं मिलेगा तब तक धरने पर बैठी रहेंगी. जरूरत पड़ी तो कोर्ट की शरण में भी जाएंगी.

काजल निषाद ने दोबारा काउंटिंग की मांग करते हुए सरकार पर आरोप लगाया कि मतगणना में इस्तेमाल किए गए कंप्यूटर अच्छी गुणवत्ता के नहीं दिए गए थे. काजल ने कहा, ‘हमलोग दिनरात रखवाली कर रहे थे और हमें यह परिणाम मिल रहा है. दोबारा चुनाव कराए जाने चाहिए. यह चुनाव कड़ी धूप में हुआ और कड़ी धूप में हम चले. मैं चाय तक नहीं पीती थी. जनता मेरे साथ थी. मैंने पहले से कहा था कि यह निषाद समाज की मान और प्रतिष्ठा का चुनाव है. जनता ने मुझे आशीर्वाद दिया. मैं कैसे मान लूं कि मेरे सब लोग हार गए

कैसे मान लूं पारदर्शिता हुई है- काजल निषाद

सपा प्रत्याशी ने आगे कहा, ‘मेरे समाज ने बढ़कर वोट दिया है. मेरे गोरखपुर की जनता ने आशीर्वाद दिया. कैसे मान लूं पारदर्शिता हुई और निष्पक्ष चुनाव हुआ. इनका कंप्यूटर अच्छी गुणवत्ता का नहीं है जैसे ये सरकार रोड अच्छा नहीं देती है, वैसे कोई सामान अच्छा नहीं देती है. दोबारा मतगणना होनी चाहिए. ‘ बता दें कि राज्य के 75 जिलों में नगर निकाय चुनाव के लिए दो चरणों में क्रमश: चार मई और 11 मई को मतदान हुआ. नगर निकाय चुनाव में 17 महापौर, 1420 पार्षद, नगर पालिका परिषदों के 199 अध्यक्ष, नगर पालिका परिषदों के 5327 सदस्य, नगर पंचायतों के 544 अध्यक्ष और नगर पंचायतों के 7178 सदस्यों के निर्वाचन के लिए दोनों चरणों में मतदान हुआ. चुनाव में 17 महापौर और 1,401 पार्षदों के चुनाव के लिए मतदान हुआ, जबकि 19 पार्षद निर्विरोध चुने गए. राज्य में नगर पालिका परिषदों के 198 अध्यक्षों और 5,260 सदस्यों के चुनाव के लिए मतदान हुआ.

गोरखपुर समेत इन जिलों में हुआ था

चुनावमतदाताओं ने नगर पंचायतों के 542 अध्यक्षों और नगर पंचायतों के 7,104 सदस्यों के भाग्य का फैसला करने के लिए भी मतदान किया. कुल मिलाकर, 162 जनप्रतिनिधि निर्विरोध चुने गए, जबकि 14,522 पदों के लिए 83,378 उम्मीदवार मैदान में थे. उत्तर प्रदेश में महापौर का चुनाव आगरा, झांसी, शाहजहांपुर, फिरोजाबाद, सहारनपुर, मेरठ, लखनऊ, कानपुर, गाजियाबाद, वाराणसी, प्रयागराज, अलीगढ़, बरेली, मुरादाबाद, गोरखपुर, अयोध्या, मथुरा-वृंदावन नगर निगम में हुआ.


Media With You

हमारी एंड्राइड न्यूज़ एप्प डाउनलोड करें

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

What's app your name and number

What's app your name and number

Leave A Reply

Your email address will not be published.